Tuesday, 29 May 2012

धरती आकाश

मैं धरती तू आकाश प्रिये ,
जाने किस छोर मिलेंगे हम ,
पर इतना है विश्वास हमें ,
हर लम्हा साथ चलेंगे हम |

No comments:

Post a comment