Tuesday, 29 May 2012

ठुकरा न पाया वो

कहाँ तक साथ चलना है हमें बतला न पाया वो ,
नहीं था प्यार हमसे ये कभी जतला न पाया वो ,
हमारे प्यार में ताकत थी इतनी ऐ- जहाँ वालों ,
कि हो कर गैर का भी हमको फिर ठुकरा न पाया वो |

No comments:

Post a comment