Tuesday, 29 May 2012

कब समझोगे तुम हमारे आने का मकसद
अब तो किताब बंद करके जा रहे हैं हम |

No comments:

Post a comment