Tuesday, 29 May 2012

ज़िंदगी

किसी कि ज़िंदगी बन कर चले थे राह हम जिनकी , 
बदल कर राह उल्फत की वो काफ़िर हो गए हैं अब |

No comments:

Post a comment