Tuesday, 29 May 2012

क्यूँ कम लिखे हैं

मेरे नसीब में बस चंद अश्क लिखे हैं ,
मुझे गिला है खुदा से कि क्यूँ कम लिखे हैं|

No comments:

Post a comment