Tuesday, 29 May 2012

कुछ शाख से टूटे हुए पत्तों कि याद में
इस बार दरख्तों ने नए फल नहीं दिए|

No comments:

Post a comment